BPSC 67th Paper Leak: बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की 67वीं संयुक्‍त प्रारंभिक परीक्षा (BPSC 67th Combined Preliminary Examination) का पेपर परीक्षा से पहले ही लीक हो चुका था। परीक्षा का आयोजन 1,083 केंद्रों पर आयोजित किया था गया था। आयोग के सचिव जिउत सिंह ने प्रश्न पत्र लीक होने की जांच के आदेश दिए हैं।

67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा (पीटी) को रद्द कर दिया

प्रश्नपत्र वायरल होने का मामला सामने आने के बाद बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा (पीटी) को रद्द कर दिया है। प्रश्नपत्र कहां से लीक हुआ, किसने वायरल किया, इसकी जांच साइबर सेल से कराई जाएगी। प्रश्नपत्र वायरल होने की जांच के लिए बनी कमेटी की रिपोर्ट के बाद अध्यक्ष आरके महाजन ने परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया।

जांच साइबर सेल से कराने के लिए डीजीपी बिहार से अनुरोध किया गया

आयोग के संयुत सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि प्रश्नपत्र के वायरल होने की जांच साइबर सेल से कराने के लिए डीजीपी बिहार से अनुरोध किया गया है। दरअसल, बीपीएससी 67वीं प्रारंभिक परीक्षा रविवार 12 बजे से शुरू होनी थी। इससे पहले ही प्रश्नपत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वायरल प्रश्नपत्र को दोपहर 11.49 बजे राष्ट्रीय छात्र एकता मंच के अध्यक्ष दिलीप ने मुख्यमंत्री सचिवालय को ईमेल कर दिया। परीक्षा के बाद परीक्षार्थियों ने भी दावा किया कि वायरल प्रश्नपत्र के सवाल परीक्षा में पूछे गए प्रश्नपत्र से मिल गए हैं।

कमेटी ने प्रश्नपत्र वायरल होने की बात को सही पाया

सोशल मीडिया पर प्रश्नपत्र वायरल होने के बाद बीपीएससी ने जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम बनाई। टीम से 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट मांगी गई। टीम ने रविवार को ही अपनी रिपोर्ट आयोग के अध्यक्ष को सौंप दी। कमेटी ने प्रश्नपत्र वायरल होने की बात को सही पाया। परीक्षा में पूछे गए सवाल से मिलने की बात कही। इसके बाद आयोग ने परीक्षा रद्द करने का निर्णय लिया।

1083 केंद्रों पर हुई परीक्षा

बिहार में 1083 केंद्रों पर परीक्षा हुई। इसमें लगभग 75 प्रतिशत परीक्षार्थियों की उपस्थिति रही है। हालांकि परीक्षा में शामिल होने के लिए पांच लाख 18 हजार छात्रों ने प्रवेश पत्र डाउनलोड किया था।

BPSC PT Exam Today: की 67वीं संयुक्त पीटी परीक्षा आठ मई रविवार को आयोजित होगी। इसकी तैयारी प्रशासनिक स्तर पर पूरी कर ली गई है। परीक्षा के लिए जिला मुख्यालय में 33 परीक्षा केंद्र बनाये गये हैं। इसमें 25,420 अभ्यर्थी भाग लेंगे।

16 जोनल दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई

कदाचारमुक्त परीक्षा संचालन को लेकर दो एवं तीन परीक्षा केंद्रों को एक जोन मानते हुए 16 जोनल दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसके अलावा नौ सुपर जोनल दंडाधिकारी बनाये गये हैं। स्टैटिक दंडाधिकारी के रूप में 33 दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। प्रत्येक केंद्र पर केद्राधीक्षक को परीक्षा कक्ष का वीडियोग्राफी कराने का निर्देश दिया गया है।

अभ्यर्थी परीक्षा केंद्रों पर एक घंटे पूर्व यानी 11 बजे पहुंच जाएंगे

साथ ही इसकी सीडी आयोग को भेजने का निर्देश दिया गया है। अभ्यर्थी परीक्षा केंद्रों पर एक घंटे पूर्व यानी 11 बजे पहुंच जाएंगे। उसी समय उनको परीक्षा केंद्र के अंदर प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। 12 बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक परीक्षा संचालित की जाएगी।

इलेक्ट्रॉनिक सामग्री तथा व्हाइटनर एवं ब्लेड आदि ले जाने पर रोक लगाई गई

आयोग ने डीएम को परीक्षा संयोजक नियुक्त किया है, जबकि डीडीसी को सहायक परीक्षा संयोजक बनाया गया है। अभ्यर्थियों को अपने साथ परीक्षा कक्ष में मोबाइल, केलकुलेटर, ब्लूटूथ, वाईफाई गैजेट, इलेक्ट्रॉनिक घड़ी, स्मार्ट वॉच पेजर, इलेक्ट्रॉनिक सामग्री तथा व्हाइटनर एवं ब्लेड आदि ले जाने पर रोक लगाई गई है।

जिला कंट्रोल रूम की स्थापना

परीक्षा संचालन में विधि व्यवस्था को लेकर जिला कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। इसका दूरभाष नंबर 06182- 248701 है। इस दूरभाष नंबर पर विपरीत स्थिति में सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सकेगा। इसके वरीय प्रभार में एडीएम सह जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी मंजूषा चंद्रा होंगी। जिला कंट्रोल रूम में चार सुरक्षित दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है ताकि आवश्यकताओं के अनुसार उनका उपयोग किया जा सके।

बीपीसीएसी पीटी कल, केंद्रों के पास लागू रहेगी धारा 144, जांच के बाद ही मिलेगा प्रवेश

किसी भी तरह को कोई भी मोबाइल, कम्प्युटर या अन्य इलेक्ट्रॉनिक गजट अपने पास नहीं रखेंगे। परीक्षा केंद्र में केंद्र अधीक्षक को छोड़ अन्य को मोबाइल रखना वर्जित है।

BPSC PT Exam

परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा शुरू होने से एक दिन पहले से ही परीक्षा के दिन तक के लिए 500 गज चारों तरफ धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू रहेगी। जाम व भीड़ भाड़ को देखते हुए छात्र समय से पहले केंद्र पर पहुंचें। इसके लिए जिला नियंत्रण कक्ष भी बनाया गया है।

Join Telegram ChannelClick Here
Join Whatsapp GroupClick Here
WebsiteClick Here

Leave a Reply