Bihar Board

इंटर परीक्षा के मूल्यांकन ड्यूटी में ‘फंड’ और ‘मूनलाइट’ गुरु जी की भी ड्यूटी लगायी गयी है। यह कमाल बिहार विद्यालय परीक्षा समिति का है। हकीकत में किसी भी गुरुजी के नाम का अस्तित्व सारण में नहीं है।

जिले में 26 से शुरू होने वाले इंटर मूल्यांकन में लगाए गए एमपीपी शिक्षकों की बिहार बोर्ड से अनुमोदित सूची में यह सनसनीखेज मामला उजागर होने के बाद सारण में भी हड़कप है। बोर्ड से अनुमोदित सूची में गुरुजी को ‘कुमारी मूनलाइट’ ‘कुमारी फंड’ ‘कुमारी पॉइंट’ ‘इंटरटेनमेंट कुमार और ग्रीटिंग्स के नामों का अप्वाइंटमेंट लेटर भेजा गया।


ये भी पढ़ें– Bihar Board Inter/Matric Copy Clicking : इस दिन से शुरू मात्र 13 दिन में पूरा किया जाना है कॉपी जॉच


सारण से भेजी गई और अनुमोदित होकर लौटी सूची के अवलोकन के बाद सनसनीखेज हद तो तब हो गयी जब हिंदुस्तान ने अप्वाइंटमेंट लेटर में अंकित शिक्षको के विद्यालयों की पड़ताल की तो पता चला कि संबंधित विद्यालय में कुमारी मूनलाइट’ ‘कुमारी फंड’ ‘कुमारी पॉइंट,’ ‘इंटरटेनमेंट कुमार और ग्रीटिंग्स नाम के कोई शिक्षक नहीं हैं।

इतनी बड़ी गड़बड़ी सामने आने के बाद विभाग के लोग सकते में हैं। बोर्ड की अनुमोदित सूची में ऐसे 35 से अधिक नाम शामिल हैं। हालांकि जांच के बाद इसकी संख्या अधिक होने का अनुमान है।

अभी तो 35 से अधिक नाम आये सामने, जांच के बाद बढ़ेगी संख्या 

अनुमोदित सूची में अभी तो 35 से अधिक शिक्षकों के नाम चिन्हित किए गए हैं। पूरी सूची का बेहतर ढंग से अवलोकन किया जाए तो और भी मामले सामने आएंगे। मालूम हो कि जिले के इंटर मूल्यांकन केंद्रों पर 26 फरवरी से मूल्यांकन का कार्य प्रारंभ होना है।

मालूम हो कि जिले में बनाए गए इंटर की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन केंद्रों पर प्रारंभिक विद्यालयों के एक्सपर्ट करीब एक हजार शिक्षकों को अलग-अलग मूल्यांकन केंद्र आवंटित किया गया है। बिहार बोर्ड ने डीईओ कार्यालय से भेजी गई शिक्षकों की सूची को अनुमोदित कर उनको नियुक्ति पत्र हस्त गत कराने के लिए भेजा है।

हंसी से होंगे लोट पोट, व्यवस्था पर आएगा गुस्सा

यह खबर सुबह-सुबह पढ़ते हुए भले ही हंसी को रोक नही पाएंगे। आप का ब्लड प्रेशर और शुगर हंसी के मारे कंट्रोल हो जाएगा लेकिन इस व्यवस्था पर उतना ही चिढ़ और गुस्सा भी चढ़ रहा होगा।

इतनी बड़ी लापरवाही में गड़बड़ी कहां से हुई यह तो जांच का विषय है। फिर भी इस संबंध में जब डीईओ अजय कुमार सिंह से बात की गई तो बिहार बोर्ड को भेजी गई सूची के अवलोकन पर स्थिति स्पष्ट हो गयी। जिले से भेजे गए नामों में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है।

उच्च शिक्षा से प्रारंभिक तक गड़बड़ियों का चल रहा सिलसिला 

सारण जिले में उच्च शिक्षा से लेकर प्रारंभिक स्तर तक गड़बड़ियों का सिलसिला चलता रहा है। विभिन्न मामलों में शिक्षा विभाग की किरकिरी होती रही है क्योंकि जयप्रकाश विश्वविद्यालय में लोकनायक जयप्रकाश नारायण समेत 7 महापुरुषों के जीवनी को सिलेबस से हटाने के बाद हो हंगामा हुआ।

हिंदुस्तान की पहल पर पुनः पीजी के सिलेबस से हटाए गए महापुरुषों के नामों को शामिल किया गया। उसके बाद विभिन्न परीक्षाओं के एडमिट कार्ड और पंजीयन में एक ही रोल नंबर और पंजीयन संख्या आवंटित कर दी गई थी।

अभी हाल में छात्राओं के नैपकिन के पैसे भेजने में भी गड़बड़ी का मामला सामने आया था । जिसकी जांच चल रही है। यह तो अब हद हो गई जब गुरुजी ही एंटरटेनमेंट कुमारी, पॉइंट मूनलाइट और फंड बना दिये गए।

क्या-क्या हैं रोचक नाम 

औरा वर्जिन, कुमारी टैलेंट पांडेय, कुमारी मूनलाइट, कुमारी होप, कुमारी क्वीन, कुमारी औसपीसीएस, नॉलेज लाइट, नॉलेज गोट्स, किलर कुमार लियोन, कुमार ओम लाइट, कुमारी औरा, जय लाइट पंडित, इन ह्यूमन ऑफरिंग, फोरमैन कुमारी, जेंटल चौधरी, हॉप ओपिनियन, इफ यू समेत 35 से अधिक नाम। 

Join WhatsAppClick Here
Join TelegramClick Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *